आज के इस प्रतियोगिता के दौर में केवल इंटेलिजेंस या डिग्री पर ही फोकस नहीं किया जाता है। बल्कि इस बात पर भी ध्यान रखा जाता है कि वह किस तरह से खुद को प्रस्तुत करते हैं। सबसे बड़ी बात खुद को प्रस्तुत करने में इंग्लिश बोलने का भी बड़ा महत्व होता जा रहा है। अर्थात यूँ कहें कि कम्यूनिकेशन स्किल्स में स्पोकन इंग्लिश का बड़ा रोल होता है। एक इंटरव्यू में प्रतिभागियों के ड्रेसिंग सेंस से लेकर उनकी कम्यूनिकेशन स्किल्स,आदि हर चीज को चेक किया जाने लगा है। इसलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि किस तरह से आप अपनी इंग्लिश बोलने की कला को और अधिक प्रभावी कैसे बना सकते हैं। तो आइए जानते हैं स्पोकन इंग्लिश पर कमांड पाने के टिप्सः

रीडिेंग के इन तरीकों को अपनाएं

न्यूजपेपर, मैगजीन या बुक में अपनी पसंद के विषय को बोल -बोलकर पढ़ें। रीडिंग करने के भी दो तरीके होते हैं। पहला केवल ‘रीड’ करना जिससे आपकी करेंट अफेयर्स का ज्ञान और वोकैब्लरी बढ़ती है। दूसरा भाग होता है ‘रीड अलाउड’ जिससे आप अलग शब्‍दों का उच्‍चारण सीखते हैं और उनका सुधार करते हैं। अगर आपको सबके सामने बोलने में शर्म आती है तो आप मिरर के सामने इसकी प्रैक्टिस करें।

टंग ट्विस्टर का करें ज्यादा प्रयोग
दिन में 10 बार कोई भी टंग ट्विस्टर बोलें। इससे आपके मुंह के मसल्स स्ट्रेच होंगे और आपकी जबान तरह-तरह के शब्द बोलने में सक्षम होगी। बोलते समय आपका मुंह पूरी तरह से खुला होना चाहिए। इससे आपकी एक्सेंट और स्पीच में स्पष्टता आएगी और बोलते समय शब्द जंबल्ड नहीं होंगे।
वर्ड गेम का लें सहारा
वर्ड गेम्स से भी वोकैबुलरी को इंप्रूव किया जा सकता है। खुद को ईडियम्स और प्रोवर्ब्स से परिचित करने में भी वर्ड गेम्स मददगार होते हैं। स्क्रैबल गेम वर्ड गेम्स में सबसे बेहतर गेम माना जाता है। जो आपकी वोकैबुलरी को बढ़ाने में मदद करता है। हमेशा इस बात का ध्यान रखिये कि जितनी अच्छी आपकी वोकैबुलरी होगी, उतनी ही बेहतर आपकी स्पोकन इंग्लिश हो पाएगी।

लोगों से ज्यादा से ज्यादा करें इंटरेक्ट
जहां पर भी संभव हो वहां इंग्लिश में बात करने की कोशिश करें। आप चाहे तो अपने फ्रेंड्स को कॉल करके उनसे इंग्लिश में इंटरेक्ट कर सकते हैं। अपनी बातों में उन वर्ड्स को जरूर शामिल करें। जो आप रोजाना सीखते हैं। ऐसा करने से आपकी फ्लूएंसी और इंग्लिश बोलने का कॉन्फिडेंस भी बढ़ेगा। लोगों के सामने अपना प्वॉइंट इंग्लिश में एक्सप्लेन करने में न हिचके। क्योंकि ऐसे ही आपकी स्पोकन इंग्लिश इंप्रूव होगी।

अपनी आवाज को करें रिकॉर्ड
आप अपनी वॉइस को रिकॉर्ड करके उसका उच्चारण सुनें। यह बहुत ही बेहतर तरीका इंग्लिश सीखने के लिए माना जाता है। इसे सुनने के दौरान आपका फोकस ग्रामर और जो शब्द आप यूज कर रहे हैं उस पर होना चाहिए। इससे आपको अपने वीक प्वॉइंट्स, आपकी स्पीकिंग टोन, बोलते समय आप कितना स्ट्रेस देते हैं और आपको कहां इंप्रूव करना चाहिए। यह पता चलेगा। वॉइस रिकॉर्ड करने से आप खुद को जज कर पाएंगे और कहां-कहां पर खुद को इंप्रूव करना है यह भी आसानी से समझ पाएंगे।