भाग्यशाली महिलाओं में होते है यह तीन गुण !

जीवन-शैली

चाणक्य मनुष्य की कमियों और खूबियां को परखने का गुण रखते थे शायद इसी वजह से उन्होंने ऐसी नीतियों का निर्माण किया जो आज के समय में भी बहुत उपयोगी होती जा रही है। यदि कोई मनुष्य उनकी नीतियों को ठीक से समझकर उन पर अमल करे तो इस बात का दावा किया जा सकता है कि वह इंसान जीवन में कभी दुखी नहीं हो सकता।

हम आपको बताएँगे चाणक्य नीति के अनुसार लड़कियों और महिलाओं के अंदर छुपे तीन मुख्य गुणों के बारे में। उनके अनुसार यदि किसी लड़की या महिला में यह तीन गुण हों, तो वह भाग्यशाली होती है। चलिए अब जानते है कि चाणक्य ने यह बात किस आधार पर कही है।

 

पहला गुण-

जो लड़की या महिला लोगो के साथ मीठी वाणी में व्यवहार करती है वह बहुत भाग्यशाली होती है क्योंकि वह अपनी मीठी बोली के बल से दूसरे के मन को जीत लेती है। वही मीठे वचन बोलने वाले लोगो को सभी प्रिय लगती है जिस घर की लड़की या महिला मधुर वचन बोलती हो, वहाँ सदैव लक्ष्मी का निवास होता है इसलिए यह लड़की या महिला का पहला गुण है।

 

दूसरा गुण-

जो लड़की या महिला धार्मिक कार्यो को करने में रूचि लेती हो, अपने पति व घर वालों का सम्मान करती हो और समय पड़ने पर हर समय उनका साथ देती हो वह लड़की या महिला अपने घर वालों और पति के लिए अत्यधिक भाग्यशाली होती है, इसलिए बुद्धिमान व्यक्ति को ऐसी स्त्री का कभी त्याग नहीं करना चाहिए।

 

तीसरा गुण-

जो लड़की या महिला आवश्यकता से अधिक न बोलती हो,धन की बचत करना जानती हो और घर कार्य में कुशल होती है। वह लड़की या महिला अपने घर वालों और पति के लिए वरदान स्वरूप होती है। हिन्दू धर्म में स्त्री को लक्ष्मी का रूप बताया गया है इसलिए समझदार व्यक्ति को महिलाओं का सम्मान करना चाहिए।

Leave a Reply